24 घंटे के भीतर ​सेवानिवृत्त शिक्षक कमलेश मिश्र की हत्या का खुलासा, तीन गिरफ्तार

सीतापुर। महोली थाना क्षेत्र में हुई सेवानिवृत्त शिक्षक कमलेश​ मिश्र की हत्या का खुलासा पुलिस ने  24 घंटे के भीतर ही कर दिया। कमलेश की हत्या उनके शिष्य मुकेश शुक्ला ने अपने साथियों के साथ मिलकर की थी।

पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह ने रविवार को प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि शुक्रवार को सेवानिवृत्त शिक्षक कमलेश​ मिश्र की हत्या कर दी गयी थी। हत्या के खुलासे के लिए पांच टीमें लगी थी।

जांच के दौरान पुलिस ने मुकेश शुक्ला, अखिलेश की पत्नी शालू और अंकुल मिश्र को हिरासत में लेकर पूछताछ की। इसमें मुकेश ने बताया कि कमलेश अपने घर के पास ही मन्दिर बनवाये हुए थे। वह तंत्रविद्या का जानकार और मेरे गुरु थे।

उसने बताया कि उसकी मौसी की बेटी को शादी के कई साल हो गये थे। जब इसकी जानकारी उन्हें हुई तो मुकेश अपनी मौसी के लेकर कमलेश के पास गया। जहां करीब दो वर्षों से अभियुक्त शालू, मृतक के संपर्क में रहकर तंत्र-मंत्र की क्रिया कर रही थी, लेकिन इसके बाद भी शालू की पुत्री के कोई संतान नही हुई। आरोप है कि तंत्र-मंत्र की संपूर्ण प्रक्रिया महिलाओं के साथ आपत्तिजनक स्थिति में की जाती थी। इस बात की पुष्टि मृतक के शिष्य मुकेश शुक्ला जो मृतक के साथ इस प्रक्रिया में सहयोग करता था। दो वर्ष के बाद भी जब पुत्र की प्राप्ति नहीं तो शालू के दमाद अंकुल को इस कृत्यों के बारे में जानकारी हुई और उसने कमलेश की हत्या की योजना बना डाली। इसके बाद उसने अपनी लोकेशन बदलकर साथी मुकेश शुक्ला से कमलेश की हत्या करवा दी। अभियुक्तों ने अपना जूर्म स्वीकार किया है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना में संलिप्त तीनों अभियुक्तों के पास से हत्या में इस्तेमाल किया गया हथियार बरामद किया गया है। गिरफ्तार अभियुक्तों को जेल भेज दिया गया है।

विपक्षियों ने सरकार को घेरा

कमलेश मिश्र के ब्राह्मण वर्ग से होने के कारण उसकी हत्या के बाद से ही राजनीतिक दलों ने भी कानून व्यवस्था की आड़ लेकर सरकार को घेरा। समाजवादी पार्टी के एमएलसी आनंद भदौरिया ने ट्वीट के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी को निशाने पर लिया था, तो वहीं आम आदमी पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने मृतक के घर पहुंचकर सरकार को घेरने का काम किया था।

error: Content is protected !!