ऊर्जा मंत्री ने नोएडा व ग्रेटर नोएडा के इंडस्ट्रियल व घरेलू फीडर्स का किया निरीक्षण

– उपभोक्ताओं को फोन कर ली विद्युत आपूर्ति की जानकारी
-आत्मनिर्भर यूपी में निर्बाध आपूर्ति से निवेश व रोजगार को देंगे नया आयाम : श्रीकान्त शर्मा

 लखनऊ/ गौतमबुद्ध(हि.स.)। उत्तर प्रदेश के ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री  श्रीकान्त शर्मा ने गुरुवार को गौतमबुद्ध नगर जिले में नोएडा व ग्रेटर नोएडा के इंडस्ट्रियल व घरेलू फीडर्स वाले उपकेंद्रों का निरीक्षण किया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान उद्योगों को ट्रिपिंग फ्री आपूर्ति की लगातार मॉनिटरिंग के निर्देश दिये। 
ऊर्जा मंत्री ने दादरी स्थित कुड़ी खेड़ा विद्युत उपकेंद्र, नोएडा सेज और नोएडा के सेक्टर 16 ए फिल्म सिटी इंडस्ट्रियल फीडर्स वाले विद्युत उपकेंद्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने इंडस्ट्रियल व कॉमर्शियल उपभोक्ताओं  को फोन कर बिजली आपूर्ति की जानकारी ली। अधिकारियों को इज ऑफ डूइंग बिजनेस के लिये निर्बाध आपूर्ति देने, नये कनेक्शन की पेंडेंसी न रखने व उपभोक्ता शिकायतों के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने उपभोक्ताओं के नाम व नम्बर अपडेट करने व उनसे संपर्क माध्यमों से समस्या समाधान तक संपर्क में रहने के निर्देश भी दिए। उन्होंने उपकेंद्र से ही उपभोक्ताओं को फोन कर उनसे आपूर्ति और समस्याओं के संबंध में जानकारी भी की। 
उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद से बिजली की कोई कमी नहीं है। पर्याप्त, निर्बाध व सस्ती बिजली आपूर्ति के लिये ट्रांसमिशन व डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क को लगातार मजबूत किया जा रहा है। उन्होंने सही बिल-समय पर बिल सुनिश्चित करने व हाई लॉस फीडर पर लाइन लॉस 15 प्रतिशत से कम लाने के निर्देश दिये। उपभोक्ता सुविधाओं पर जोर देने और ग्राम प्रधानों से आपूर्ति की लगातार जानकारी लेने के निर्देश दिये।
निरीक्षण के बाद जानकारी देते मंत्री ने बताया कि प्रदेश विद्युत उत्पादन में आत्मनिर्भर बन रहा है। वर्ष 2022 तक ऊर्जा विभाग के राज्य तापीय विद्युतगृहों का उत्पादन 7,260 मेगावाट बढ़कर 12734 मेगावॉट हो जाएगा। इसमें से 1320 मेगावॉट विद्युत उत्पादन इसी वर्ष से बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प की दिशा में प्रदेश में निवेश व रोजगार के माहौल को बढ़ावा देने के लिये गांव और शहर के साथ ही उद्योगों को भी निर्बाध बिजली देने पर जोर है।  लगातार सर्वाधिक मांग की सफल आपूर्ति के बारे में ऊर्जा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में 16 सितंबर को अब तक की अधिकतम मांग 23,867 मेगावाट की आपूर्ति की गई। यह साढ़े तीन साल पहले तक की गई अधिकतम आपूर्ति से करीब सात हजार मेगावाट अधिक है। निर्बाध आपूर्ति के लिये तीन साल में प्रदेश में ट्रांसमिशन क्षमता (टीसी) 16,500 से 8000 मेगावाट बढ़कर 24,500 मेगावाट हो गई है। आयात क्षमता (टीटीसी) भी 8700 मेगावाट से बढ़कर तीन साल में 13,500 मेगावाट हो गई है। तीन साल में 92 नए ट्रांसमिशन उपकेंद्र और बेहतर वितरण व्यवस्था के लिए 33/11 किलावाट के 587 नए उपकेंद्र बने और 1091 उपकेंद्रों की क्षमता वृद्धि की गई है।
ऊर्जा मंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य गांवों को स्वावलंबी बनाना भी है। उन्हें 24 घंटे बिजली दिये जाने का लक्ष्य है। इसके लिए सभी फीडर्स के लाइन लॉस को 15 फीसदी से कम करने का अभियान जनसहयोग से चलाया जा रहा है। भाजपा सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में 54 फीसदी बिजली ज्यादा दी है। 

error: Content is protected !!