योगी सरकार को मिली कामयाबी, जुलाई 2019 की तुलना में इस बार 97.76 प्रतिशत कर राजस्व जुटाया

-आर्थिक गतिविधियों को पटरी पर लाने में सरकार हुई सफल 

लखनऊ। कोरोना के कारण अप्रैल और मई माह में आर्थिक गतिविधियों पर काफी असर पड़ने के बाद योगी सरकार ने इसे जुलाई में पटरी पर लाने में बड़ी कामयाबी हासिल की है। राज्य में जुलाई 2019 के मुकाबले जुलाई 2020 का कर राजस्व 97.76 प्रतिशत पर पहुंच गया है।
प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि अब सारी गतिविधियां उसी रफ्तार से चलने वाली हैं जैसे फरवरी के पहले चल रही थीं। जुलाई माह से हम काफी बेहतर स्थिति में पहुंच गए हैं। पिछले वर्ष जुलाई में हमारा कर राजस्व का कलेक्शन 10,926.36 करोड़ था। जुलाई, 2020 में यह 10,675.42 करोड़ पर पहुंच गया। यानी पिछले वर्ष जुलाई में जो हमारी स्थिति थी, हम लगभग उसके उसके करीब पहुंच गए हैं।
वित्त मंत्री ने अलग-अलग मदों के आंकड़ों के जरिए बताया कि जीएसटी में जुलाई 2019 में 6564.88 करोड़ की प्राप्ति हुई थी, जबकि इस बार जुलाई 2020 में यह 6024.16 रहा। इसी तरह एसजीसटी 1850.71 करोड़ के सापेक्ष 1799.81 करोड़ पहुंच गया है। आईजीएसटी मद में 3011.87 करोड़ की तुलना में 2320.81 करोड़ की राशि प्राप्त की गई। वैट में इस वर्ष इजाफा हुआ है। ​विगत वर्ष के जुलाई माह के 1702.30 करोड़ की तुलना में इस वर्ष जुलाई माह में इस मद में 1903.54 करोड़ की राशि प्राप्त की गई। इसी तरह आबकारी स्टाम्प तथा निबंधन एवं परिवहन मद के कर राजस्व में भी वृद्धि दर्ज की गई है। यह 4214.27 करोड़ की तुलना में 4472.72 करोड़ रुपए पहुंच गया। भूतत्व एवं खनिकर्म में 147.21 करोड़ के सापेक्ष 178.54 करोड़ वसूले गए। 
वित्त मंत्री ने कहा कि इस तरह गत वर्ष जुलाई माह के कर राजस्व के मुकाबले इस वर्ष जुलाई में हमने 97.7 प्रतिशत हासिल किया। ये अपने आप में साबित करता है कि हम पहले के मुकाबले लगातार बेहतर स्थिति में पहुंच रहे हैं।

error: Content is protected !!