Kanpur News : कोमल है कमजोर नहीं शक्ति का नाम ही नारी है : असिस्टेंट कमिश्नर जीएसटी

कानपुर (हि. स.)। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सोमवार को स्टेशन पर आने वाले यात्रियों की देखरेख करने के साथ ही बेहतर कार्य करने वाले कर्मियों को सम्मानित किया गया। इसी क्रम में कानपुर गोविन्दपुरी स्टेशन में रेलवे कर्मचारियों व रेलवे सुरक्षा बल की महिला आरक्षी का सम्मान करते हुए उनका मनोबल बढ़ाया गया। मुख्य अतिथि असिस्टेंट कमिश्नर जीएसटी ममता उपाध्याय ने उत्तर मध्य रेलवे विभाग में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 30 महिलााओं को पुरस्कृत कर बधाई दी। 

उन्होंने कहा कि, कोमल है, कमजोर नहीं शक्ति का नाम ही नारी है, सबको जीवन देने वाली मौत भी इससे हारी है। आज महिलाओं का कार्य ही समाज में अलग-अलग पहचान बना रहा है। जिसमें कि खेल-कूद, स्वास्थ्य संबंधी सेवाएं, शिक्षा, विज्ञान, फिल्मी दुनिया, पुलिस व राजनीति में भी महिलाएं अपनी भूमिका को बड़ी ही दिलचस्पी के साथ निभा रही है। पहले के समय में महिलाओं का जीवन बड़ी ही कठिनाइयों के साथ गुजारना पड़ता था। लेकिन अब इस आधुनिक दौर में महिलाओं के शिक्षित हो जाने से महिलाएं का वर्ग मजबूती के साथ समाज के कंधे से कंधे मिलाकर चल रहा है।
कानपुर सेंट्रल स्टेशन के उप मुख्य यातायात प्रबंधक हिमांशु शेखर ने बताया कि समाज में महिलाओं की भूमिका को देखते हुए उनसे एक सबब भी मिलता है। कि जो महिला एक मां के रूप में देखनो को मिलती है तो वहीं वीरांगना झांसी की रानी के नाम से भी जानी जाती है। सरकार भी ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान से महिलाओं को जोड़कर देश को और भी सशक्त बनाने का कार्य कर रही है।
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर कानपुर सेंट्रल स्टेशन के आरक्षण, बुकिंग व पार्सल कार्यालयों में सुबह की पाली में सारा कार्य महिला कर्मचारियों द्वारा किया गया। साथ ही कालका से कोलकाता जाने वाली गाड़ी संख्या 02312 में टूंडला से कानपुर तक के संचालन में कार्यरत सभी स्टाफ महिला रेल कर्मचारी थीं जिनमें लोको पायलट, गार्ड, चेकिंग स्टाफ, रेल सुरक्षा बल भी शामिल रहा।
कार्यक्रम में एस.के.गौतम सीनियर डीओएम/जीएमसी, डीएसटी अनिल कुमार सिंह, एसीएम सीएमआई संतोष त्रिपाठी, मुख्य वाणिज्य निरीक्षक ज्ञान सिंह, के.एन. भरद्वाज, स्टेशन अधीक्षक व अन्य रेलवे कर्मचारी उपस्थित रहे। 

error: Content is protected !!