Gonda News : संयुक्त परिवार मानवीय गुणों की खान-संज्ञा पाण्डेय

जानकी शरण द्विवेदी

गोंडा। लाल बहादुर लाल बहादुर शास्त्री डिग्री कॉलेज के ललिता सभागार में मिशन शक्ति अभियान 2022 उत्तर प्रदेश के तहत अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया गया। अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस 2022 की थीम परिवार और शहरीकरण के साथ मनाया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ दीप प्रज्वलन, सरस्वती माल्यार्पण और सरस्वती वंदना के साथ किया गया। तत्पश्चात अतिथियों का स्वागत एवं स्वागत गीत का आयोजन किया गया। आज के कार्यक्रम की मुख्य वक्ता एवं मुख्य अतिथि श्रीमती संज्ञा पांडेय ने कहा कि आधुनिक जीवन शैली के चलते परिवार का महत्व कम हो रहा है। परिवार के महत्व के प्रति लोगों की जागरूकता बढ़ाने के लिए ही हर वर्ष दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस का उद्देश्य दुनिया भर के परिवारों की भलाई के लिए, उनके स्वास्थ्य, शिक्षा, बच्चों के अधिकार, लैंगिक समानता, कार्यों को लेकर, पारिवारिक संतुलन और सामाजिक समावेश पर केंद्रित है। उन्होंने कहा कि संयुक्त परिवार में रहकर व्यक्ति संस्कार, नैतिकता, दया, प्रेम, भलाई, रहन-सहन आदि जैसे गुण स्वतः ही सीख जाता है। संयुक्त परिवार की अहमियत आज सिर्फ व्यक्तिगत स्तर पर ही नहीं, वैज्ञानिक स्तर पर भी साबित हो चुकी है। ऐसे कितने ही शोध दुनिया में हो चुके हैं, जिनसे साबित हुआ है कि संयुक्त परिवार में मिल जुलकर रहने पर बहुत कम लोग अवसाद ग्रस्त होते हैं। अकेले व्यक्ति को जहां छोटे-छोटे दुख-दर्द भी पहाड़ की तरह प्रतीत होते हैं। परिवार के साथ रहकर व्यक्ति अपने बड़े से बड़े दुख दर्द को और कठिनाइयों को हंसते-हंसते सहन कर जाता है। उद्बोधन सत्र के बाद परामर्श सत्र में समाज शास्त्र की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ शशि बाला ने छात्र-छात्राओं कि परिवार से संबंधित जिज्ञासाओं का शमन किया। उन्होंने छात्र-छात्राओं को बताया कि परिवार सामाजीकरण का आधार है, और आपने मां बदल रही है। एक कविता के माध्यम से मां के महत्व को बहुत ही सुंदर ढंग से एक कविता में पिरोकर सुनाया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री लाल बहादुर शास्त्री डिग्री कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर रविंद्र कुमार पांडेय ने धन्यवाद ज्ञापन में सभी का धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि एक मजबूत और सशक्त परिवार एक मजबूत और सशक्त देश बनाने में मदद करता है। प्राचार्य ने कहा कि एक नारी, किसी की पत्नी है, किसी की बेटी है, किसी की बहन है। हमें उसके हर रूप का आदर करना चाहिए, क्योंकि वह जो अपना वजूद भुलाकर हर किरदार निभाती है। यह वह देवी है, जो घर को स्वर्ग बनाती है। आज के कार्यक्रम का सफल संचालन कार्यक्रम की नोडल अधिकारी डॉक्टर चमन कौर ने किया। कार्यक्रम में डॉ मनीषा पाल, डॉ ममता शुक्ला, डॉ शैलजा, डॉ स्मिता सिंह, डॉ विजय लक्ष्मी, डॉ दीप्ति एवं छात्र छात्राएं उपस्थित रहे।

यह भी पढें : आपको वज्रपात की पूर्व सूचना चाहिए तो मोबाइल में डाउनलोड करें यह ऐप

कलमकारों से ..

तेजी से उभरते न्यूज पोर्टल www.hindustandailynews.com पर प्रकाशन के इच्छुक कविता, कहानियां, महिला जगत, युवा कोना, सम सामयिक विषयों, राजनीति, धर्म-कर्म, साहित्य एवं संस्कृति, मनोरंजन, स्वास्थ्य, विज्ञान एवं तकनीक इत्यादि विषयों पर लेखन करने वाले महानुभाव अपनी मौलिक रचनाएं एक पासपोर्ट आकार के छाया चित्र के साथ मंगल फाण्ट में टाइप करके हमें प्रकाशनार्थ प्रेषित कर सकते हैं। हम उन्हें स्थान देने का पूरा प्रयास करेंगे :
जानकी शरण द्विवेदी
सम्पादक
E-Mail : jsdwivedi68@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!