Gonda News:आरसेटी में चल रहा प्रशिक्षण शिविर खत्म, CDO ने बांटा प्रमाण पत्र

जानकी शरण द्विवेदी

गोंडा। इंडियन बैंक के सौजन्य से ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) सुभागपुर में चल रहे द्विसाप्ताहिक जूट प्रोडक्ट उद्यमी प्रशिक्षण शिविर शुक्रवार को सम्पन्न हो गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्य विकास अधिकारी गौरव कुमार ने प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त स्वतः रोजगार एनबी सविता ने बताया कि विभिन्न विकास खण्डों की 25 स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का प्रशिक्षण चल रहा था, जिसके पूरा होने पर सीडीओ ने प्रमाण पत्र वितरित किया। अपने सम्बोधन में उन्होंने सभी को शुभकामनाएं देते हुए पूर्ण मनोयोग के साथ काम करने की अपील की। सीडीओ ने मानव जीवन में धन का महत्व समझाते हुए प्रशिक्षुओं को स्वावलम्बी बनने की सलाह दी। उन्होंने सभी प्रशिक्षणार्थियों से जूट्स उत्पाद के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी ली। उन्होंने अपने-अपने उत्पाद को दिखाया तथा जूट की मार्केटिंग की व्यवस्था कराने की मांग की। मुख्य अतिथि ने जूट्स उत्पाद की उपयोगिता के विषय में भी बताया। डीसी ने सभी प्रशिक्षुआें को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए उनके आर्थिक उन्नति पर जोर दिया। संस्थान के निदेशक ने महिलाओं को रोजगार स्थापित करने में हर संभव मदद एवं सहयोग करने की बात कही।

यह भी पढें : झूठी निकली अपहरण की कहानी, अवैध सम्बंधों में हुई थी हत्या

कार्यक्रम के प्रशिक्षुओं ने स्वागत गीत प्रस्तुत कर अतिथि स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन कार्यालय प्रभारी मोजम्मिल ने किया। इस मौके पर डीएमएम अंशुमान तिवारी, संस्थान निदेशक तरुण कुमार शुक्ल, डीएसटी शकुन्तला सिंह, संकाय मोहम्मद सिद्दीकी, आरिफा खातून एवं नाज़ फातिमा समेत संस्थान के अनेक कर्मचारी उपस्थित रहे। बताते चलें कि आरसेटी एक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान है, जहां पर ग्रामीण बीपीएल परिवार के युवक-युवतियों को निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है। आरसेटी में युवाओं को उनके रुचि के अनुसार स्वरोजगार से जोड़ने के लिए हुनरमंद बनाया जाता है। आरसेटी को ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान पूरे भारत में चलाया जाता है। यह भारत सरकार, ग्रामीण विकास विभाग एवं जिलों के अग्रणी बैंकों द्वारा संयुक्त रूप से संचालित किया जाता है। ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान में निःशुल्क रहने खाने की व्यवस्थाओं के साथ प्रशिक्षण दिया जाता है। इसमें हॉस्टल, क्लास रूम और रहने खाने की सुविधा के लिए कैंटीन के माध्यम से सुविधा प्रदान किया जाता है। हॉस्टल सुविधा में महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग व्यवस्था किया जाता है।

यह भी पढें : DM; CDO के निरीक्षण में फंसे 8 अधिकारी, 25 कर्मचारी

कलमकारों से ..

तेजी से उभरते न्यूज पोर्टल www.hindustandailynews.com पर प्रकाशन के इच्छुक कविता, कहानियां, महिला जगत, युवा कोना, सम सामयिक विषयों, राजनीति, धर्म-कर्म, साहित्य एवं संस्कृति, मनोरंजन, स्वास्थ्य, विज्ञान एवं तकनीक इत्यादि विषयों पर लेखन करने वाले महानुभाव अपनी मौलिक रचनाएं एक पासपोर्ट आकार के छाया चित्र के साथ मंगल फाण्ट में टाइप करके हमें प्रकाशनार्थ प्रेषित कर सकते हैं। हम उन्हें स्थान देने का पूरा प्रयास करेंगे :
जानकी शरण द्विवेदी
सम्पादक
E-Mail : jsdwivedi68@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!