Gonda- कालाबाजारी की तो एनएसए के तहत होगी कार्रवाई- जिलाधिकारी

गोंडा । कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जिला प्रशासन द्वारा लगातार सार्थक प्रयास किए जा रहे हैं। गोंडा के जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही ने बताया है कि जल्द ही जिले के तीन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों इटियाथोक, मनकापुर तथा करनैलगंज को कोविड हास्पिटल के रूप में परिवर्तित कर वहां पर 50-50 बेड की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाएगी। इसके साथ ही तीनों सीएचसी के कोविड हॉस्पिटल में ऑक्सीजन के छोटे सिलेंडर उपलब्ध कराए जाएंगे। जिलाधिकारी ने बताया कि जिला महिला चिकित्सालय में नया आक्सीजन प्लान्ट चालू हो जाने से यह निर्णय लिया गया कि कोविड संक्रमण से ग्रसित कोरोना पाॅजिटिव महिला मरीजों को महिला अस्पताल में ही भर्ती कराया जाएगा ताकि उन्हें आवश्यकता पड़ने पर आक्सीजन दी जा सकेे।

इसके अलावा भविष्य में जिले मेें आक्सीजन की कोई कमी न हो इसके लिए जिलाधिकारी ने विधायकों से उनके विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत किसी एक सीएचसी पर आक्सीजन प्लान्ट लगाए जाने का प्रस्ताव मांगा है। जिलाधिकारी ने बताया कि प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक-एक नया आक्सीजन प्लान्ट लगेगा तथा प्रत्येक प्लान्ट की लागत साढ़े बाइस लाख रूपए होगी। उन्होंने बताया कि नए ऑक्सीजन प्लांट वाले सीएचसी पर ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले कोविड व नाॅन कोविड दोनों तरह के मरीजों को भर्ती कराया जाएगा। जिलाधिकारी ने कहा है कि अलग 15 दिनों में ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना कराने का पूरा प्रयास किया जाएगा।

गुरुवार देर रात कोविड संक्रमण की समीक्षा में जिलाधिकारी ने पल्स आक्सीमीटर, इन्फ्रारेड थर्मामीटर, भाप की मशीन तथा अन्य जरूरी उपकरणों की कुछ दुकानदारों द्वारा कालाबाजारी किए जाने की शिकायत का संज्ञान लेते हुए तत्काल प्रभाव से अभिसूचना इकाई को सक्रिय कर अगले दो दिन के अन्दर इनपुट मांगा है। जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया है कि शिकायत सही पाए जाने पर सम्बन्धित दुकानदार के विरूद्ध महामारी अधिनियम की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराकर दुकान सीज कराने के साथ-साथ एनएसए की कार्यवाही की जाएगी।

जनसामान्य को सभी मेडिकल वस्तुएं तथा दवाइयां सही मूल्य पर मिल सकें इसके लिए एसडीएम आत्रेय मिश्रा को जिलाधिकारी ने औषधि निरीक्षण मजिस्ट्रेट नियुक्त कर सख्त निर्देश जारी किए हैं।

error: Content is protected !!