83 बच्चों को बचाने में सफल हुआ ऑपरेशन ‘नन्हें फरिश्ते’

उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के रेलवे सुरक्षा बल के लिए अधिकारियों के लिए नन्हे फरिश्ते ऑपरेशन अभी तक उनके मनोस्थिति के अनुसार रूचिकर भी है। अधिकारियों के अथक प्रयास ही हैं कि जनवरी से मई तक लखनऊ मंडल के विभिन्न स्टेशनों एवं गाड़ियों में लावारिस अवस्था में मिले 40 लड़कों व 43 लड़कियां को बचाया गया। इसमें तीन लड़कियों एवं छह लड़कों को अपने परिवार से पुनर्मिलन कराया गया एवं 73 बच्चों को चाइल्ड लाइन पहुंचाने का कार्य हुआ तो एक को राजकींय रेलवे पुलिस को सुरक्षित रूप से सुपुर्द किया।

उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल में रेल सुरक्षा बल ने कड़ाई से काम किया है तो मानवीय पहलुओं का भी पूरा ध्यान रखा हैं। वर्तमान वर्ष 2022 में रेल सुरक्षा बल की उपलब्धियां बहुत सारी है। इसमें रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारियों के निरंतर दायित्वों के निर्वहन में जरूरतमंद यात्रियों की सहायता करते रहने से है।

हिन्दुस्थान समाचार/ शरद

लखनऊ(हि.स.)। रेलवे सुरक्षा बल ने लखनऊ मंडल में जनवरी 2022 तक मई 2022 तक ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते चलाया और 83 बच्चों को बचाने में सफल हुए। रेलवे स्टेशनों या रेलवे परिसर में खोये हुए बच्चों को ढूंढकर उनके परिवारीजन तक पहुंचाने में रेलवे सुरक्षा बल दिनरात लगा हुआ है।

उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के रेलवे सुरक्षा बल के लिए अधिकारियों के लिए नन्हे फरिश्ते ऑपरेशन अभी तक उनके मनोस्थिति के अनुसार रूचिकर भी है। अधिकारियों के अथक प्रयास ही हैं कि जनवरी से मई तक लखनऊ मंडल के विभिन्न स्टेशनों एवं गाड़ियों में लावारिस अवस्था में मिले 40 लड़कों व 43 लड़कियां को बचाया गया। इसमें तीन लड़कियों एवं छह लड़कों को अपने परिवार से पुनर्मिलन कराया गया एवं 73 बच्चों को चाइल्ड लाइन पहुंचाने का कार्य हुआ तो एक को राजकींय रेलवे पुलिस को सुरक्षित रूप से सुपुर्द किया।

उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल में रेल सुरक्षा बल ने कड़ाई से काम किया है तो मानवीय पहलुओं का भी पूरा ध्यान रखा हैं। वर्तमान वर्ष 2022 में रेल सुरक्षा बल की उपलब्धियां बहुत सारी है। इसमें रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारियों के निरंतर दायित्वों के निर्वहन में जरूरतमंद यात्रियों की सहायता करते रहने से है।

शरद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!