सिपाही की मौत से नहीं उठा पर्दा, प्रभारी निरीक्षक निलम्बित

प्रतापगढ़ (हि.स.)। लालगंज कोतवाली परिसर में पच्चीस सितम्बर को  सिपाही की बैरक में तीसरी मंजिल पर संदिग्ध परिस्थितियों में सीढ़ी पर खून से लथपथ लाश मिली थी, जिसको गोली लगी थी। पांच दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक मामला खुल नहीं सका है। मंगलवार को प्रभारी निरीक्षक लालगंज को जांच में लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया गया।

सिपाही की लाश लगभग छः घण्टे तक सीढ़ियों पर पर पड़ी रही, लेकिन पुलिस वाले की नजर नहीं पड़ी। मृतक सिपाही आशुतोष यादव की 16 फरवरी 2019 को लालगंज थाने मे तैनाती मिली थी। जो गाजीपुर जिले का रहने वाला था। कुछ दिनों पहले ही वह अपने घर से वापस लालगंज थाने पर लौटा था। संदिग्ध मौत से पहले वह हर दिन की तरह अपना काम‌ करता है। ड्यूटी पर तैनात होने के बाद वह एके47 के साथ लापता हो गया। छह घण्टे बाद एक सिपाही उसे खोजते हुये, बैरक के तीसरी मंजिल पर जाता है। उसे वहां पर  आशुतोष का खून से लथपथ शव देखकर हैरान रह गया। 

एसपी अनुराग आर्य ने बताया कि लालगंज प्रभारी निरीक्षक राकेश भारती को आईजी के आदेश पर निलम्बित कर दिया है। जांच के दौरान यह पाया गया कि प्रभारी निरीक्षक ने मृतक सिपाही को खोजने का प्रयास नहीं किया। साथ मे हमराही होने के बावजूद उसकी मानसिक स्थित को कैसे समझ नहीं पाये, इसलिये इन्हें निलम्बित कर दिया गया। 

error: Content is protected !!