साइबर क्राइम : प्रदेश में 385 अपराधी हो चुके गिरफ्तार, साढ़े पांच करोड़ हुए बरामद

-साइबर क्राइम थाना के गठन के बाद से साइबर क्राइम पर लगा अंकुश

लखनऊ (हि.स.)। मुख्यमंत्री के निर्देश पर खोले गये परिक्षेत्रीय साइबर क्राइम थानों का असर दिखने लगा है। इनके द्वारा अब तक कुल 385 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर इनसे पांच करोड़ 63 लाख 47 हजार रूपये से अधिक की बरामदगी की गयी है।

प्रदेश के परिक्षेत्रीय साइबर क्राइम थानों में अब तक कुल 528 अभियोग पंजीकृत किये गये हैं, जिनमें से 126 अभियोगों का अनावरण करते हुए उक्त कार्रवाई की गयी है तथा शेष कार्रवाई प्रगति पर है। महिलाओं के साथ घटित होने वाले साइबर अपराधों की शिकायत पर सुगमता से कार्यवाही हेतु प्रत्येक साइबर थाने में महिला साइबर क्राइम सेल भी संचालित कराया जा रहा है।

प्रदेश के सभी परिक्षेत्रीय साइबर थानों को पर्याप्त उपकरणाें एवं संसाधनों की व्यवस्था की गयी है। शासन द्वारा नये साइबर थानों को और अधिक सुदृढ़ करने एवं डाटा सम्बन्धी कार्यों आदि के लिये और बेहतर परिणाम हेतु 32 करोड़ 80 लाख रूपये की धनराशि दी गयी है। इस धनराशि से सभी साइबर थानों के साइबर लैब हेतु डाटाबेस मैनेजमेंट, फारेन्सिक टूल्स, डेटा एनेलिसिस साफ्टवेयर, डेटा एक्सट्रैक्शन साफ्टवेयर आदि की व्यवस्था किये जाने के प्रयास किये गये हैं।

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में अब पोर्टल पर कुल 49,779 शिकायतें एवं कुल 21,512 टिप लाइन शिकायतें प्राप्त हुई हैं, जिनका निस्तारण सम्बन्धित जनपदों एवं साइबर क्राइम थानों द्वारा कराया जा रहा है। साइबर क्राइम मुख्यालय द्वारा अब तक कुल 12,547 संदिग्ध मोबाइल नम्बरों को बंद किये जाने हेतु रिपोर्ट किया गया है।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व में स्थापित साइबर थाना लखनऊ व गौतमबुद्धनगर के अलावा सभी 16 परिक्षेत्रीय स्तर पर एक-एक साइबर क्राइम थाने बनाये गये हैं। शासन द्वारा इन थानों को सुचारू रूप से संचालित किये जाने हेतु 384 पदों का सृजन भी किया गया है।

अपर पुलिस महानिदेशक, साइबर क्राइम राम कुमार ने सोमवार को बताया कि साइबर अपराधियों द्वारा पीड़ित व्यक्तियों के बैंक खाते से धोखाधड़ी कर निकाली गयी धनराशि को यथाशीघ्र अपराधियों के खातों में फ्रीज कराकर पीड़ित को वापस कराने हेतु टोल फ्री नम्बर 155260 संचालित किया गया है।

error: Content is protected !!