वाराणसी एसटीएफ ने दो करोड़ के गांजे के साथ दो तस्करों को दबोचा

वाराणसी (हि.स.)। उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की वाराणसी इकाई ने चन्दौली के अलीनगर थाना क्षेत्र में छापेमारी कर दो गांजा तस्करों को गिरफ्तार कर उनके पास से 978 किलोग्राम गांजा बरामद किया है। बरामद गांजे की कीमत लगभग दो करोड़ रूपये आंकी गई है। गांजा कण्टेनर ट्रक में छिपाकर आन्ध्र प्रदेश से लाया जा रहा था।

सोमवार शाम को एसटीएफ के वाराणसी इकाई के अफसरों ने बताया कि पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों में अवैध मादक पदार्थ की तस्करी करने वाले तस्करों के सक्रिय होने की सूचनायें प्राप्त हो रही थी। सीओ विनोद कुमार सिंह के नेतृत्व में टीम तस्करों की टोह में जुटी हुई थी। इसी दौरान सूचना मिली की आंध्र प्रदेश से एक कण्टेनर ट्रक में भारी मात्रा में गांजा छुपाकर बिहार की तरफ से चंदौली जीटी रोड के रास्ते लाया जा रहा हैं। सटीक सूचना पर निरीक्षक पुनीत परिहार के नेतृत्व में निरीक्षक अरविन्द सिंह, उप निरीक्षक आलोक सिंह की टीम नाॅरकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो के अधिकारियों को साथ लेकर चन्दौली के थाना अलीनगर चकिया चौराहे पर पहुंची और घेराबंदी कर लिया। इसी दौरान कंटेनर को आते देख टीम ने उसे रोका और उसमें सवार दो तस्करों को गिरफ्तार कर वाहन की तलाशी ली। वाहन में 978 किलोग्राम गांजा बरामद हुआ। पुलिस टीम ने वाहन को अपने कब्जे में लेकर तस्करों से पूछताछ किया। तस्करों ने अपना नाम मुडईमा, थाना डिढ़ौली, जनपद अमरोहा निवासी मोईन पुत्र अशहाक और रियाजुन पुत्र नजरूल बताया। 
दोनों ने बताया कि कण्टेनर नीली खेडी, थाना डिढौली, जनपद अमरोहा निवासी शहनवाज का है। इसमें गांजा छुपाकर तस्करी का काम किया जाता है। अमरोहा के ही सोनू पुत्र उस्मान के कहने पर हम लोग सलूर घाटी आंध्र प्रदेश से गांजा लादकर मथुरा के लिये ले जा रहे। मथुरा पहुॅंचने पर सोनू हम लोगों से वहीं पर मिलता। वह गांजा जिसे देने के लिये बताता उसे हम दे देते। हम लोगों को प्रति चक्कर किराये के अतिरिक्त 60 हजार रूपये मिलता था, जिसके लालच में आकर हम लोग यह कार्य कर रहे थे। एसटीएफ के अफसरों ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों के खिलाफ नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो लखनऊ ने एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा पंजीकृत कर लिया है। अग्रिम आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है।

error: Content is protected !!