राज्य : पुणे के केमिकल फैक्ट्री में आग लगने से मरने वालों की संख्या 18 हुई

– प्रधानमंत्री मोदी ने घटना पर जताया शोक, मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये की मदद 
– राज्य सरकार ने की मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये के आर्थिक मदद की घोषणा

राजबहादुर यादव
मुंबई (हि.स.)। महाराष्ट्र के पुणे जिले में स्थित सैनिटाइजेशन बनाने वाली केमिकल फैक्ट्री ‘एसवीएस कंपनी’ में सोमवार शाम करीब 4.00 बजे भीषण आग लगने से 18 मजदूरों की मौत हो गई। घटनास्थल पर फायर ब्रिगेड कर्मियों ने आग पर काबू पा लिया है। फिलहाल वे अन्य मजदूरों की तलाश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस घटना पर गहरा शोक प्रकट किया है। उन्होंने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद व घायलों को 50-50 हजार रुपये की मदद की घोषणा की है। वहीं राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने इस घटना को बेहद तकलीफदेह बताया। उन्होंने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की आर्थिक मदद की घोषणा की है। पुणे के जिलाधिकारी राजेश देशमुख ने उपविभागीय अधिकारी संदेश शिर्के की अध्यक्षता में जांच समिति गठित कर घटना की जांच के आदेश जारी कर दिये हैं।यह समिति अगले दो दिनों में अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी। पुणे फायर ब्रिगेड के अधिकारी देवेंद्र पोटफोड़े ने बताया कि पुणे के पिरंगुट में एमआईडीसी इलाके में स्थित एसवीएस नामक केमिकल फैक्ट्री में आज सुबह 37 मजदूर काम पर आए थे। कंपनी में सैनिटाइजर बनाया जा रहा था। लेकिन,  पूर्वान्ह तकरीबन 4 बजे कंपनी के मशीन में स्पार्क होने से आग लग गई थी। इसकी जानकारी मिलते ही फायर ब्रिगेड की तीन गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग को बुझाने का काम शुरू कर दिया। अभी तक घटनास्थल से 18 शव बरामद किए गए हैं। मृतकों में 15 महिलाएं और तीन पुरुष शामिल हैं। बताया जा रहा है कि आग इतनी भीषण थी कि कंपनी की पिछली दिवार को जेसीबी से तोडक़र 12 मजदूरों को बचाया गया। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, सांसद सुप्रिया सुले, स्थानीय विधायक संग्राम थोपटे ने इस घटना को तकलीफदेह बताया है। अजीत पवार ने कहा कि इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों को कठोर सजा दी जाएगी।  

error: Content is protected !!