मिट्टी की लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति से गुलजार होगा दीपावली बाजार

– उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड ने कारीगरों एवं शिल्पियों को उपलब्ध कराया नि:शुल्क मास्टर डाई

– 15 अगस्त को कारीगरों को सौंपे गए मास्टर डाई ने बढ़ाई उम्मीद

गोरखपुर (हि.स.)। 15 अगस्त को उत्तर प्रदेश माटीकला बोर्ड ने गोरखपुर के माटीकला के कारीगरों एवं शिल्पियों को नि:शुल्क लक्ष्मी-गणेश की प्रतिमा के मास्टर मोडल्स एवं डाई वितरित किया था। इससे उम्मीद है कि इस दीपावली का यह पर्व मिट्टी की लक्ष्मी-गणेश प्रतिमाओं से गुलजार होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दीपावली पर प्लास्टर आफ पेरिस एवं चीन से आने वाली लक्ष्मी-गणेश की प्रतिमाओं की बजाय मिट्टी की लक्ष्मी-गणेश प्रतिमाएं बिक्री पर जोर देने के साथ प्रयास भी किया जा रहा है। मुख्यमंत्री की इस मंशा के अनुरूप दीपावली के बाजार को मिट्टी की मूर्तियों से गुलजार करने के लिए क्षेत्रीय ग्रामोद्योग विभाग ने इस दिशा में ठोस कदम बढ़ा दिया है। यही वज़ह है कि क्षेत्रीय ग्रामोद्योग अधिकारी गोरखपुर के कार्यालय में माटीकला बोर्ड के सदस्य हरी लाल प्रजापति की अध्यक्षता में डाई का वितरण किया गया था।

ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के माटीकला से जुड़े शिल्पी एवं कारीगरों ने प्रतिभाग किया था। इस दौरान 05-05 का समूह बनाकर कारीगरों के चार समूहों को एक-एक जोड़ा लक्ष्मी गणेश की मूर्ति का सांचा दिया गया था। अब इस प्रयास ने माटी के कारीगरों का मनोबल बढ़ाया है। ज्ञातव्य हो कि यह वितरण पिछली बार भी हुआ था और उसका अच्छा परिणाम मिला था।

माटीकला के कार्य में आने वाली हर कठिनाई का समाधान करने लिये विभाग की ओर से आश्वस्त किया किया गया है। इधर, क्षेत्रीय श्रीगांधी आश्रम ने भी कारीगरों के उत्पादों की बिक्री में सहयोग का आश्वासन दिया है।

परिक्षेत्रीय एवं जिला ग्रामोद्योग अधिकारी गोरखपुर एके पाल का कहाना है कि इस दीपावली मिट्टी के बने सामानों की बिक्री बढ़ने का अनुमान है। कारीगरों में भी इससे उत्साहित बढ़ा है।

आमोद

error: Content is protected !!