भारत-वियतनाम के बीच बस सेवा शीघ्र: चै

प्रादेशिक डेस्क
गोरखपुर। भारत में वियतनाम के राजदूत फाम सन्ह चै ने कहा कि भारत-वियतनाम के मध्य पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए दोनों देश साझा प्रयास कर रहे हैं। इसी के तहत हनोई-कोलकाता सीधी वायु सेवा शुरू हुई है। जल्द ही बस सेवा शुरू करने की योजना पर भी तेजी से कार्य चल रहा है। फाम सन्ह चै शिष्टमंडल के साथ ही बुधवार को सुबह कुशीनगर आए।
कुशीनगर में पत्रकारों से बातचीत में फाम सन्ह चै ने बताया कि अक्टूबर के अंत में दिल्ली और वियतनाम के हो ची मिन्ह सिटी के बीच हवाई सेवा शुरू हो जाएगी। भविष्य में योजना है कि दोनों देश सड़क मार्ग से भी जुड़ जाएंगे। भारत के पूर्वोत्तर राज्य से म्यांमार होते हुए थाईलैंड तक सड़क मार्ग से जोड़ने की योजना पर कार्य चल रहा है। भविष्य में यह परियोजना को लाओस के रास्ते वियतनाम तक ले जाने की योजना बनी है।
उन्होंने बताया कि अब भारत के पर्यटकों के लिए वियतनाम में वीजा आन एराइवल की सुविधा उपलब्ध है। राजदूत ने उम्मीद जताई कि हवाई सेवा शुरू होने से दोनों देशों के मध्य परस्पर आवागमन बढ़ेगा। जिससे पर्यटन के साथ-साथ उद्योग-व्यापार के क्षेत्र में क्रांति आएगी। साहित्य कला, संस्कृति, धर्म को भी दोनों देशों के लोग जान समझ सकेंगे। एक प्रश्न के उत्तर में राजदूत ने कहा कि वियतनाम के पर्यटक बौद्ध सर्किट के कुशीनगर आते हैं। यदि कुशीनगर का एयरपोर्ट शुरू होता है तो वियतनाम सरकार यहां से वायु सेवा शुरू करने पर विचार कर सकती है। फाम सन्ह चै आठ सदस्यीय टीम के साथ धार्मिक यात्रा पर बोधगया आए थे। बोधगया से प्रतिनिधिमंडल के साथ बुधवार को कुशीनगर आए। उन्होंने बताया कि हनोई-कोलकाता सीधी वायु सेवा अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में शुरू हुई है।


Hindustan Daily News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।