बादलों की आवाजाही के साथ होती रहेगी बारिश

– तापमान में हो रही बढ़ोत्तरी से लोगों को गलन भरी सर्दी से मिलेगी राहत

कानपुर (हि.स.)। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी के साथ पश्चिमी विक्षोभ की हवाएं कानपुर सहित गंगा के मैदानी क्षेत्रों में आ रही हैं। इससे आसमान में बादलों की आवाजाही बनी रहेगी और आगामी चार दिनों तक हल्की बारिश होती रहेगी। इसके साथ ही तीनों तरफ से आ रही हवाओं के आपस में टकराने से आसमान में बिजली चमकेगी और ओले भी गिरेंगे। पिछले चौबीस घंटे में कानपुर में आठ मिमी बारिश जरुर हुई है लेकिन तापमान में बढ़ोत्तरी हो रही है जिससे लोगों को गलन भरी सर्दी से राहत मिल रही है।

चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. एस एन सुनील पाण्डेय ने सोमवार को बताया कि पश्चिमी विक्षोभ अफगानिस्तान और उससे सटे पाकिस्तान के हिस्सों पर बना हुआ है। एक प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण-पश्चिम राजस्थान और जुड़ने वाले क्षेत्रों पर बना हुआ है।

अगले 24 घंटों के दौरान पूर्व और मध्य कानपुर मण्डल सहित उत्तर प्रदेश, उत्तर मध्य प्रदेश में हल्की बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर मध्यम बारिश हो सकती है और बिहार के साथ तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश संभव है। लद्दाख और जम्मू कश्मीर में हल्की से मध्यम बारिश के साथ बर्फबारी हो सकती है। 24 जनवरी से पहाड़ों पर बारिश और बर्फबारी तेज होगी और 24 से 27 जनवरी के बीच पश्चिमी हिमालय के कई हिस्सों को कवर कर सकती है।

कानपुर में अधिकतम तापमान 21.0 और न्यूनतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह की सापेक्षिक आर्द्रता 97 और दोपहर की सापेक्षिक आर्द्रता 67 प्रतिशत रही। पिछले 24 घंटों में आठ मिमी बारिश हुई। हवाओं की दिशाएं उत्तर पूर्वी रहीं जिनकी औसत गति 3.2 किमी प्रति घंटा रही।

अजय सिंह

error: Content is protected !!