पुलिस मुठभेड़ : बावरिया गैंग का सरगना, पचास हजार का ईनामी रामू गिरफ्तार

मथुरा (हि.स.)। जनपद के नौहझील थाना क्षेत्र के बाजना रोड पर नोएडा की एसटीएफ टीम, नौहझील पुलिस और बदमाश के बीच मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के दौरान पुलिस की गोली लगने से पचास हजार का इनामी बदमाश रामू घायल हो गया। पुलिस ने घायल बदमाश को गिरफ्तार कर उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। पकड़ा गया बदमाश बावरिया गैंग का सरगना है। हाईवे पर रात के समय सुनसान इलाके में टायरों को पंक्चर या वाहनों को अनियंत्रित कर लूटपाट और यात्रियों से दुव्यवहार करने वाला शातिर बदमाश है। इसी बदमाश ने ही 22 जनवरी को मथुरा डीएम के साथ लूट करने की कोशिश की थी, जिसके बाद पुलिस ने इस पर 50 हजार का ईनाम घोषित था। 
गौरतलब हो कि, 22 जनवरी की रात को जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्रा अपने परिवार के साथ मथुरा से नोएडा जा रहे थे, तभी बदमाश रामू ने उनकी गाड़ी पंक्चर कर दी और उनके साथ लूटपाट करने की कोशिश की लेकिन जिलाधिकारी के साथ गनर होने के कारण वह सफल नहीं हो सका। इसके बाद पुलिस लगातार इस बदमाश की तलाश कर रही थी। साथ ही पुलिस ने रामू के ऊपर पचास हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा था। यूपी एसटीएफ को इनपुट मिला था कि बावरिया गैंग आगरा-दिल्ली हाईवे पर किसी वारदात को अंजाम देने जा रहा है। इस पर नोएडा से एसटीएफ की टीम मथुरा पहुंची। यहां से इलाका पुलिस को साथ लेकर टीमें मुस्तैद हो गईं। मुखबिर की सूचना सही निकली। कुछ देर के बाद बावरिया गैंग से मुठभेड़ हो गई है। दोनों तरफ से जमकर गोलियां चलीं। एक बदमाश के गोली लगी।  गैंग के अन्य साथी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकले। घायल बदमाश 50,000 रुपये का इनामी वांछित रामू पुत्र रामपाल निवासी बल्लभगढ़ फ़रीदाबाद है। रामू और उसका गैंग उत्तर प्रदेश के यमुना एक्सप्रेस वे, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के पेरीफ़ेरल और केएमपी रोड पर कई घटनाओं को अंजाम देता रहा है। 
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. गौरव ग्रोवर ने बुधवार को बताया  कि पचास हजार रुपये का इनामी बदमाश रामू को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। जवाबी कार्रवाई करते समय बदमाश रामू घायल हो गया है, जिसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रामू बावरिया गैंग का सदस्य बताया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मंगलवार देर रात यूपी एसटीफ की नोएडा यूनिट और नौहझील की थाना पुलिस ने इस संयुक्त ऑपरेशन को मथुरा के नौहझील में अंजाम दिया। 
कुख्यात बबलू की मौत के बाद बावरिया गैंग का बना था सरगना
रामू कुख्यात बबलू बावरिया गैंग का सक्रिय सदस्य है। बबलू एसटीफ की टीम से अलीगढ़ में मुठभेड़ में घायल हुआ था और दौरान उपचार बबलू की मृत्यु हो गई थी। इसके बाद गैंग की कमान रामू ने संभाल ली थी। रामू हाईवे पर मथुरा, अलीगढ़ और पलवल (हरियाणा) के आधा दर्जन मुक़दमों में वांछित चल रहा था। इस गैंग के बारे में बताया जाता है कि यह किसी हाईवे पर सुनसान इलाकों में ऐक्सल फेंककर या हाईवे पर कीलें फैलाकर टायर पंक्चर कर सवारियों को उतारकर उनसे लूटपाट करता है और यात्रियों से दुर्व्यवहार भी करता है। गैंग के बाकी सदस्यों की तलाश की जा रही है। 

error: Content is protected !!