छुट्टी न मिलने से आहत बीडीओ की हार्ट अटैक से मौत

प्रादेशिक डेस्क
हरदोई। ड्यूटी पर जाने के लिए अपने आवास में तैयार होते समय अचानक बीडीओ को दिल का दौड़ा पड़ गया। ड्राइवर उनको लेकर जिला अस्पताल पहुंचे, जहां पर डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। इस बात की जानकारी मिलते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया। डीएम समेत अन्य विभागीय अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचे। पत्नी ने आरोप लगाया है कि छुट्टी न मिलने से वे परेशान रहते थे। अधिकारी कई-कई बार मांगने पर भी अवकाश नहीं देते थे।
पीलीभीत जनपद की कोतवाली शहर क्षेत्र के मोहल्ला सिविल लाइन निवासी मोहम्मद फारुख जनपद के हरियावा विकास खंड में बीडीओ के पद तैनात थे। अभी 28 सितंबर को उन्हें सुरसा विकास खंड का अतिरिक्त चार्ज सौंप दिया गया था। वह इस समय हरदोई सदर कोतवली क्षेत्र के मोहल्ला सुभाषनगर में डीएम आवास के निकट मजार गली में किराए के मकान में रहते थे। सरकारी ड्राइवर अंकित के मुताबिक बुधवार को सुबह करीब दस बजे बीडीओ अपने कमरे में सुरसा ब्लाक जाने के लिए तैयार हो रहे थे। अचानक उसी समय उनको अटैक पड़ गया। उनके साथ रहने वाले निजी ड्राइवर ने बीडीओ के नम्बर से उसको सूचना दी कि साहब की हालत खराब है। इन्हे जिला अस्पताल में दिखाना। इससे वह मौके पर गया और उन्हें गाड़ी में लादकर जिला अस्पताल की इंमरजेंसी वार्ड पहुंचा। जहां पर डयूटी में मौजूद डॉ. अमित ने चेकअप के बाद मृत घोषित कर दिया। इसके बाद सभी अधिकारियों व उनके परिजनों को सूचना दी गई।
बीडीओ की पत्नी फरहत ने बताया उनके दो पुत्र फहाद व अफ्फाद फारुख हैं। बड़ा पुत्र एक निजी कम्पनी में नौकरी करता है। दूसरा पुत्र होटल मैनेजेन्ट कोर्स की तैयारी कर रहा है। सूचना पर इमरजेंसी मे पहुंचे जिलाधिकारी पुलकित खरे के सामने पत्नी ने आरोप लगाया कि वह काफी समय से बीमार चल रहे थे। कई बार इलाज के लिए विभागीय अधिकारियों से अवकाश मांगा पर नहीं दिया। ईद के त्योहार पर भी छुट्टी नहीं दी गई थी। इससे वह परेशान रहते थे। उसने भविष्य में किसी अन्य अधिकारी के साथ ऐसा बर्ताव न करने की गुहार लगाई। डीएम का कहना है कि उनके सामने बीडीओ को अवकाश न मिलने की जानकारी पहले नहीं आई। मामले की छानबीन कराएंगे।


Hindustan Daily News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।