आगर: साहब मुझे गिरफ्तार कर लो, बदन सिंह गिरोह से हूं

आगरा (हि.स.)। साहब मेरा नाम भोला है। मैं बदन सिंह गिरोह का सदस्य हूं। मैंने अपने दोस्तों के साथ डॉक्टर का अपहरण किया था। एनकाउंटर के डर से अब मैं आपकी शरण में आ गया हूं। मैं सरेंडर कर रहा हूं। यह यह नजारा आगरा में दूसरे दिन भी देखने के लिए मिला। जब कुख्यात बदन सिंह का साथी 25 हजार रुपये का इनामी भोला एत्मादउद्दौला थाना पर पहुंचा। यह देख थाना पुलिस भौचक रह गई और आलाधिकारियों को जानकारी दे दी है।

कुख्यात बदन सिंह के एनकाउंटर के आठ घंटे बाद उसका साथी फरार 25 हजार रुपये का इनामी भोला एत्मादउद्दौला थाना पहुंच गया। उसने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। कहा कि, मैं भोला हूं, डॉक्टर के अपहरण में शामिल था। दोस्तों के साथ डॉक्टर का आगरा से अपहरण करके ले गया था।

आगरा पुलिस ने बुधवार देर रात जगनेर के कछपुरा में हुई आमने-सामने की मुठभेड़ के बाद एक लाख के इनामी कुख्यात बदन सिंह और उसके एक साथी को ढेर कर दिया। डॉ उमाकांत गुप्ता के अपहरण के बाद एडीजी आगरा ने बदन सिंह पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया था। इसके साथ ही उसके फरार साथियों पर 25-25 हजार का इनाम घोषित किया गया था। पुलिस टीमें लगातार गिरोह की तलाश में राजस्थान और एमपी के सीमा पर डेरा डाले हुए थीं।

बता दें कि, 13 जुलाई-2021 को हनी ट्रैप का शिकार बना कर चंबल के बीहड़ में कुख्यात बदन सिंह के गिरोह ने आगरा से वरिष्ठ सर्जन डॉ. उमाकांत गुप्ता का अपहरण किया था। गिरोह ने पांच करोड़ रुपये की फिरौती के लिए अपहरण किया था। मगर, राजस्थान पुलिस की मदद से आगरा पुलिस ने हनी ट्रैप का शिकार बनाने वाली मंगला उर्फ संध्या और उसके साथी पवन को गिरफ्तार करके 31 घंटे में डॉ. उमाकांत गुप्ता को बदमाशों से मुक्त कराया था। उस दौरान बदन सिंह और उसके साथी पुलिस को बीहड़ में चकमा देकर फरार हो गए थे।

error: Content is protected !!