आईआईटी के सीसीटीवी कैमरे में फिर कैद हुआ तेंदुआ, बढ़ी दहशत

– एक नवम्बर को पहली बार आईआईटी में देखा गया था तेंदुआ

कानपुर (हि.स.)। आईआईटी, एनएसआई और ऑर्डिनेंस फैक्ट्री क्षेत्र अरमापुर में करीब एक माह से तेंदुआ चहलकदमी कर रहा है। वन विभाग की टीमें बराबर कॉम्बिंग कर रही हैं, लेकिन पकड़ में नहीं आ रहा है और बार बार ठिकाना बदल रहा है। शुक्रवार को भोर पहर आईआईटी में गर्ल्स हॉस्टल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में एक बार फिर तेंदुआ कैद हो गया। इससे आईआईटी परिसर में रह रहे लोगों में फिर से दहशत बढ़ गई और वन विभाग की टीम सक्रिय हो गई।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के हवाई पट्टी के पास पहली बार एक नवम्बर को तेंदुआ देखा गया था। इसके बाद से वह लगातार ठिकाना बदल रहा है, कभी जीटी रोड को पार करके राष्ट्रीय शर्करा संस्थान (एनएसआई) के जंगल में चला जाता है तो कभी अरमापुर के ऑर्डिनेंस फैक्ट्री क्षेत्र में पहुंच जाता है। करीब एक माह से दर्जनों बार तेंदुआ अलग अलग जगहों पर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ और वन विभाग की टीमें उसे पकड़ने के लिए बराबर प्रयासरत हैं, लेकिन वह पकड़ में नहीं आ रहा है।

10 दिन से तेंदुआ किसी भी सीसीटीवी कैमरे में कैद नहीं हुआ था, जिससे वन विभाग की टीम ने यह मान लिया था कि तेंदुआ शहर छोड़कर भाग गया होगा। इसी बीच शुक्रवार की भोर पहर आईआईटी के गर्ल्स हॉस्टल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में एक बार फिर तेंदुआ चहलकदमी करते देखा गया। इससे आईआईटी परिसर से लेकर एनएसआई और आसपास के इलाकों में दहशत फैल गई और लोग अकेले घरों से निकलने में डरने लगे।

डीएफओ श्रद्धा यादव ने बताया कि अगर आज को छोड़ दिया जाये तो आखिरी बार तेंदुआ 15 नवम्बर को ऑर्डिनेंस फैक्ट्री क्षेत्र में देखा गया था। आईआईटी के सीसीटीवी कैमरे में एक बार फिर तेंदुआ कैद हुआ है, इससे साफ है कि तेंदुआ अभी भी शहर में बना हुआ है। फिलहाल आईआईटी, एनएसआई और आसपास के इलाकों के लोगों को सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है और वन विभाग की टीमों ने कॉम्बिंग तेज कर दी है।

अजय सिंह

error: Content is protected !!