अयोध्या की रामलीला में राम के चरण रज का करें दर्शन, अवधनगरी का इतिहास भी होगा लाइव

लखनऊ (हि.स.)।  रामनगरी अयोध्या में 17 से 25 अक्टूबर तक आयोजित होने वाली ऐतिहासिक रामलीला में अवधनगरी का पूरा इतिहास दर्शाया जाएगा। भगवान श्रीराम के चरण देश में जहां-जहां पड़े हैं, उस पवित्र धरती की मिट्टी का भी लाइव दर्शन कराए जाने की तैयारी चल रही है। 
अयोध्या रामलीला कमेटी से जुड़े लोगों का कहना है कि रामलीला के इतिहास में यह शायद पहली बार होने जा रहा है जब भगवान श्रीराम जी के चरण जहां भी पड़े हैं, वहां की मिट्टी को रामलीला मंचन के दौरान दर्शाया जाएगा। इसके लिए ऋष्यमुक पर्वत, किष्किंधा (हम्पी कर्नाटक), प्रयागराज के श्रृंगवेरपुर, दंडक वन (शबरी का आश्रम गोदावरी नदी के किनारे), कावेरी नदी के किनारे, सीता-कुंड (बीकापुर), भदर्शा व नंदी ग्राम (अयोध्या), भरतकुंड, जटातीर्थ, रामेश्वर मंदिर, विमुंडी तीर्थ व दर्भशमनम (तमिलनाडु) समेत 17 स्थलों की मिट्टी लायी जा रही है।  
रामनगरी में रामलीला का मंचन लक्ष्मण किला स्थित सरयू तट पर 17 से 25 अक्टूबर तक किया जाएगा। कोरोना संकट के कारण दर्शक इसे प्रत्यक्ष नहीं देख सकेंगे। लेकिन यू ट्यूब व अन्य सोशल मीडिया साइट पर वे इस ऐतिहासिक रामलीला का लाइव आनंद ले सकेंगे। दरअसल इस रामलीला में बालीवुड के कलाकार पात्रों की भूमिका में रहेंगे। 
अयोध्या रामलीला में भरत के रोल में भाग ले रहे गोरखपुर के सांसद एवं भोजपुरी कलाकार रवि किशन ने बताया कि इसमें दिल्ली से सांसद मनोज तिवारी अंगद की भूमिका में होंगे तो फिल्म स्टार बिंदु दारा सिंह हनुमान का अभिनय करेंगे और प्रसिद्ध हास्य अभिनेता असरानी नारद मुनि की पात्रता निभाएंगे।
रवि किशन के अनुसार इस रामलीला में फिल्म स्टार रजा मुराद अहिरावण, शाहबाज खान रावण, अभिनेत्री रितु शिवपुरी कैकई, अभिनेता राकेश बेदी विभीषण और उनकी बेटी सुलोचना के किरदार में रहेंगी।  वहीं राम की भूमिका में सोनू डागर और सीता के रुप में कविता जोशी नजर आएंगी। अवतार गिल जनक बनेंगे। उन्होंने बताया कि इस रामलीला में करीब 100 कलाकार भाग लेंगे।
अयोध्या की इस ऐतिहासिक रामलीला को दुनिया की हर भाषा में दिखाए जाने की तैयारी चल रही है। अभी फिलहाल इसे हिन्दी, अंग्रेजी, भोजपुरी, तमिल, तेलगु, कन्नड़, मराठी, पंजाबी, उर्दू, राजस्थानी, हरियाणवी, बंगला मैथिल व उड़ीया समेत 15 भारतीय भाषओं में  ऑनलाइन किया जाएगा। 
गोरखपुर सांसद का कहना है कि फिल्म प्रोड्यूसर सुभाष मलिक के नेतृत्व में अयोध्या रामलीला का रिहर्सल दिल्ली में चल रहा है। रिहर्सल का कार्य अयोध्या में भी अक्टूबर माह के दूसरे सप्ताह के बाद प्रारम्भ होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आशीर्वाद से अयोध्या की रामलीला विश्व की सबसे भव्य और दिव्य रामलीला होने में सफल होगी।

error: Content is protected !!