अयोध्या का रामकथा संग्रहालय होगा अब पूरी तरह डिजिटलाइज

-अयोध्या दर्शन और श्रीरामचरित मानस के बारे में दर्शाया जाएगा

-जल्द ही आम जनता के लिए खोला जाएगा रामकथा संग्रहालय

लखनऊ (हि.स.)। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अयोध्या को विश्वस्तरीय नगरी बनाने में लगी हुई है। सरकार ने अरबों रुपये की विभिन्न परियोजनाओं पर इस क्षेत्र के लिए निवेश कर रखा है। इसी के तहत अब रामकथा संग्रहालय को पूरी तरह से डिजिटलाइज करने का योगी सरकार ने फैसला किया है।

संग्रहालय में डिजिटल माध्यम से आम जनमानस को अयोध्या और श्रीरामचरित मानस के बारे में विस्तार से बताया जाएगा। इसके लिए पर्यटन विभाग ने तैयारी पूरी कर ली है। अगले माह रामकथा संग्रहालय में डिजिटल इंटरवेंशन की योजना का लोकार्पण किया जा सकता है। पर्यटन विभाग की ओर से डिजिटल इंटरवेंशन योजना को तैयार करने में लगभग 1384.17 लाख रुपये खर्च किये हैं। रामकथा संग्रहालय में 40 मिनट तक शो चलाया जाएगा। एक साथ 100 से ज्यादा लोग इस शो को देख सकेंगे।

पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव मुकेश मेश्राम ने बताया कि रामकथा संग्रहालय के चार हाल को राजकीय निर्माण निगम द्वारा बनवाया जा रहा है। यह संग्रहालय अगले माह तक तैयार हो जाएगा। इस संग्रहालय में 3डी मैपिंग द्वारा भगवान श्रीराम के जीवन पर आधारित फिल्म को दर्शाया जाएगा। हर हॉल में 15-15 मिनट की फिल्म को दिखाया जाएगा। यह फिल्म अयोध्या के यतेंद्र मोहन मिश्रा ने लिखी है।

पीएन द्विवेदी

error: Content is protected !!