Gonda News:चुनाव में खलल डालने की मंशा रखने वालों का चिन्हांकन शुरू

अपराधियों की कुण्डली खंगालने व निरोधात्मक कार्यवाही के आदेश जारी

पंचायत चुनाव की त्रुटिहीन मतदाता सूची तैयार करने हेतु उत्तरदायित्व निर्धारित

संवाददाता

गोण्डा। जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही ने पंचायत चुनाव में खलल डालने की मंशा रखने वालों पर नकेल कसने का काम शुरू कर दिया हैं। उन्होंने त्रुटिहीन मतदाता सूची तैयार कराने के लिए उत्तरदायी अधिकारियों-कर्मचारियों का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए चुनाव में खलल डालने की मंशा रखने वालों तथा अपराधी प्रवृत्ति के लोगों के खिलाफ सख्त निरोधात्मक कार्यवाही के निर्देश दिए हैं।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिए हैं कि जहां वृहद स्तर पर मतदाता सूची में किसी प्रकार का परिवर्तन हो रहा है, पिछले छः माह में विवाद काफी रहे हां, लगातार कच्ची शराब या अवैध असलहे सम्बन्धी सूचना मिल रही हो, जाति-धर्म विशेष की अधिकता या दो वर्ग बराबर-बराबर हों तथा जहाँ पिछले चुनाव में संवेदनशीलता रही हो व अप्रिय घटना हुई हो, ऐसी ग्राम पंचायतों तथा व्यक्तियों का चिन्हांकन कर लें जिनके द्वारा निष्पक्ष, स्वतंत्र व शांतिपूर्ण चुनाव सम्पन्न कराने में व्यवधान डाले जाने की संभावना हो। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव को शांतिपूर्वक सम्पादित कराने हेतु सबसे महत्वपूर्ण मतदाता सूची का त्रुटिहीन, परिमार्जित व शुद्ध होना आवश्यक है। इसके लिए आवश्यक है कि प्रत्येक सुपरवाइजर के अधीन आने वाले सभी बी.एल.ओ. को सुपरवाइजर के साथ बुलाया जाए तथा मात्र उद्बोधन की औपचारिकता न कर उनके कार्यों की सघन समीक्षा की जाए। प्रत्येक बी.एल.ओ. से संवाद स्थापित किया जाए। इसी बैठक में ग्रामपंचायत में रह रहे सकारात्मक व नकारात्मक व्यक्तियों के सम्बन्ध में जानकारी भी प्राप्त की जाए तथा यह सुनिश्चित किया जाय कि संवाद के समय क्षेत्रीय लेखपाल व राजस्व कानूनगो को भी उपस्थित रहें।
जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिए हैं कि जो आयुध लाइसेंस निलंबित या निरस्त किए गए हैं, उनका भौतिक सत्यापन कर यह देखा जाए कि लाइसेंस पर अंकित शस्त्र कहां पर जमा किया गया है तथा शस्त्र की दुकानों का लगातार औचक निरीक्षण किया और विशेष रूप से ज्यादा संख्या में कारतूस खरीदने वाले शस्त्रधारकों की सूची तैयार कर थाने के जरिए उन पर सतर्क दृष्टि रखी जाए। दुकानों के निरीक्षण के समय कारतूस खरीदने वाले अनुज्ञापियों द्वारा जमा किए गए खोखे का भी सत्यापन कराया जाए तथा शस्त्र जमा करने के पूर्व बैंक में जमा की धनराशि की प्रति का भी अवलोकन किया जाए तथा धनराशि जमा की तिथि व शस्त्र जमा करने की तिथि को भी चेक किया जाए तथा जिन अनुज्ञापियां के पास 02 से अधिक लाइसेंसी शस्त्र हैं, उनमें से 01 शस्त्र जमा कराकर, जमा कराए गए शस्त्र लाइसेंस के निरस्तीकरण की रिपोर्ट प्रेषित करते हुए अनुपालन आख्या उपलब्ध करायी जाए। उन्होंने एन0डी0ए0एल0 पोर्टल पर दर्ज शस्त्र लाइसेंस की थानावार सूची निकलवाकर सम्बन्धित थानों को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। सूची में अंकित डाटा का मिलान थाने पर अनुरक्षित शस्त्र पंजिका से कराते हुए पंजिका को अद्यावधिक कराने, इस कार्यवाही में प्रत्येक अनुज्ञप्ति, अनुज्ञप्तिधारक व उस पर अंकित शस्त्र का भौतिक सत्यापन कराते हुए लाइसेन्सी का पासपोर्ट साइज का फोटो प्राप्त कर थाने की शस्त्र पंजी में चस्पा कराने के निर्देश दिए हैं।
अपराधियों पर नकेल कसने के लिए डीएम ने सभी उपजिलाधिकारियों तथा पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ऐसे व्यक्तियों को जिन्हें 06 माह के अन्दर जिला बदर किया गया है, के बारे मे सम्बन्धित थानों से सत्यापन कराते हुए यह देख लिया जाए कि वह जनपद सीमान्तर्गत निवास तो नहीं कर रहे हैं। जिला बदर किए गए व्यक्तियों के विषय में इस सम्बन्ध में सभी थानों से प्रमाणपत्र भी प्राप्त किया जाए। गुण्डा अधिनियम व गैंगेस्टर अधिनियम के लम्बित मामलों के निस्तारण हेतु प्रभावी कार्यवाही कराई जाए। उप जिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी द्वारा संयुक्त रूप से ग्राम प्रहरियों की थानावार अलग से बैठक कराएं तथा उनसे फीडबैक प्राप्त कर यथा आवश्यक कार्यवाही कराएं। जिलाधिकारी ने मतदाता सूची में नाम काटने व जोड़ने के प्रगतिशील कार्यों की मानीटरिंग के लिए एडीएम व सभी उपजिलाधिकारियों को ऐसे ग्राम जहाँ सबसे ज्यादा नाम बढे़ या कटे हां, की सूची तैयार कर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

अन्य खबरों को विस्तार से पढ़ने के लिए www.hindustandailynews.com पर क्लिक करें।

error: Content is protected !!